देश की खबरें | तेलंगाना विधानसभा चुनाव: करीमनगर से दो बार हार चुके बंडी संजय कुमार इस बार जी-तोड़ कोशिश कर रहे

करीमनगर (तेलंगाना), 17 नवंबर करीमनगर से दो बार विधानसभा चुनाव हार चुके भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव और करीमनगर से सांसद बंडी संजय कुमार को इस बार विधानसभा चुनाव में जीतने की उम्मीद है।
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की भूमिका निभा चुके कुमार का सामना तेलंगाना के अल्पसंख्यक वर्ग कल्याण मंत्री गांगुला कमलाकर से है जिन्होंने 2018 और 2014 में भाजपा नेता को विधानसभा चुनाव में हराया था।
संजय कुमार को जहां कट्टर हिंदूवादी छवि के साथ तेजतर्रार नेता माना जाता है, वहीं कमलाकर क्षेत्र में लोकप्रिय हैं।
इस बार चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में पुरुमल्ला श्रीनिवास पहली बार किस्मत आजमा रहे हैं जो बोम्माकल गांव के सरपंच हैं।
तीनों ही मुन्नुरू कापू समुदाय से आते हैं जो पिछड़े वर्गों में आता है।
करीमनगर से 2019 के लोकसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल करने वाले संजय कुमार 2020 से 2023 के शुरुआती महीनों तक पार्टी की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष रहे। तेलंगाना में भाजपा ने उनके नेतृत्व में विभिन्न चुनावों में सफलता हासिल की है जिनमें कई विधानसभा उपचुनाव और ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव शामिल हैं।
संजय कुमार ने तेलंगाना में तेजी से प्रगति हासिल करने के लिए ‘डबल इंजन सरकार’ (केंद्र और राज्य दोनों जगह भाजपा सरकार) की आवश्यकता पर जोर दिया है और आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ‘‘मुझे विधानसभा में प्रवेश करने से रोकने की साजिश रच रहे हैं।’’
कमलाकर ने अपने प्रचार में बीआरएस सरकार की अनेक कल्याणकारी योजनाओं का उल्लेख किया।
उन्होंने कहा, ‘‘मैं अपनी अंतिम सांस तक करीमनगर की जनता की सेवा करता रहूंगा।’’
संजय कुमार ने पार्षद के रूप में राजनीतिक कॅरियर शुरू किया था और 2005 से 2018 तक करीमनगर नगर निगम में अपने वार्ड का प्रतिनिधित्व करते रहे।
कमलाकर 2014 और 2018 में बीआरएस उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीत चुके हैं और इससे पहले 2009 में तेलुगूदेशम पार्टी के प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीते थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *